You can access the distribution details by navigating to My Print Books(POD) > Distribution

(3 Reviews)

बचपन के गीत (Bachpan Ke Geet)

84 बाल कविताओं का संग्रह
निधि चौधरी
Type: Print Book
Genre: Poetry, Children
Language: Hindi
Price: ₹180 + shipping
Price: ₹180 + shipping
Due to enhanced Covid-19 safety measures, the current processing time is 8-10 business days.
Shipping Time Extra

Description

यह पुस्तक लेखिका द्वारा बचपन में लिखी गई 84 बाल कविताओं का संकलन है । इसमें सम्मिलित कविताएं 10 वर्ष से छोटे बच्चों को ध्यान में रखकर लिखी गई हैं । हाथी से लेकर कौआ, चिड़ियाघर से लेकर स्कूल, टीचर से लेकर नानी, होली से लेकर क्रिसमस और ईद इत्यादि सरल विषयों पर बेहद सरल भाषा में लिखी गई ये कविताएं निश्चित ही नन्हे-मुन्ने पाठकों को पसंद आएगी । इसमें नया साल, गणतंत्र दिवस, बाल-दिवस जैसे विषयों पर भी कविताएं हैं जो बच्चों द्वारा अपनी स्कूल के कार्यक्रमों में पढ़ी जा सकती हैं । आशा है, यह पुस्तक नन्हे-मुन्ने पाठकों को पसंद आएगी ।

The book is a collection of 84 poems written in a simple, lucid manner. The poems are related to patriotism, festivals, relationships and therefore, are inspiring, encouraging and motivational. This book will enrich and enlighten the young kids for a better life.

About the Author

लेखिका भारतीय लेखा एवं लेखा परीक्षा विभाग में कार्यरत एक युवा सिविल सेवक है । लेखिका पूर्व में भारतीय रिज़र्व बैंक में प्रबंधक पद पर पांच वर्ष तक कार्य कर चुकी है । अकादमिक दृष्टि से लेखक ने तीन विषयों में स्नातकोत्तर किया है- राजस्थान विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य (2005) एवं लोक प्रशासन (2007) में तथा इग्नू से वर्ष 2009 में ग्रामीण विकास में स्नातकोत्तर किया है । लेखिका ने भारतीय बैंकिंग एवं वित्तीय संस्थान से JAIIB व CAIIB भी कर रखा है । इसके अतिरिक्त वह लोक प्रशासन में UGC-NET की पात्रता भी रखती है । इनके कई आलेख बैंकिंग व वित्तीय विषयों पर राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं । इनकी एक पुस्तक “1234 ECONOMIC TERMS” का प्रकाशन भी हो चुका है ।

Book Details

ISBN: 9789350678688
Number of Pages: 95
Dimensions: 5"x8"
Interior Pages: B&W
Binding: Paperback (Perfect Binding)
Availability: In Stock (Print on Demand)

Ratings & Reviews

बचपन के गीत (Bachpan Ke Geet)

बचपन के गीत (Bachpan Ke Geet)

(5.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

3 Customer Reviews

Showing 3 out of 3
PRAVEEN.AVIATOR.JAT 9 years, 1 month ago

Re: बचपन के गीत

on my nephew's birthday i wanted to gift him a good poetry collection in hindi... i found this book on net... it is so wonderful that my nephew immediately liked it as the best birthday gift... it has a collection of beautiful 84 poems...

sdnehra 9 years, 1 month ago

Re: बचपन के गीत

यह किताब बेहद अच्छी है और स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए बहुत प्रेरक और मनोरंजक है । स्कूल पुस्तकालयों में यह पुस्तक अवश्य होनी चाहिए ।

devnidhi56 9 years, 3 months ago Verified Buyer

Re: बचपन के गीत

a very good poetry collection for growing kids... the poems are not only written in a simple and lucid manner but also are inspirational...

Other Books in Poetry, Children

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.