You can access the distribution details by navigating to My Print Books(POD) > Distribution

Type: Print Book
Genre: Literature & Fiction, Poetry
Language: Hindi
Price: ₹114 + shipping
This book ships within India only.
Price: ₹114 + shipping
Due to enhanced Covid-19 safety measures, the current processing time is 8-10 business days.
Shipping Time Extra
Description of "Sabarnakha"

सप्ताह भर से
भूखे पेट हूँ
पेट के गड्ढे में
आग जल रही है
धू-धू कर
हुंह और बर्दास्त नहीं हो रहा है
सर के ऊपर तक
आग की लपटें उठ रही हैं
पेट के गड्ढे को भरने
जलती आग को
बुझाने के लिए
तुमसे कितना प्रार्थना किया
एक मुट्ठी भोजन के लिए
बार-बार गया तुम्हारे पास

About the author(s)

चंद्रमोहन किस्कू
9732939088
Email-chandramohankisku1997@gmail.com
पिता: बोरेन्द्र नाथ किस्कू
माता: बिमला किस्कू
पता: ग्राम - बेहड़ा, डाकघर - हल्दाजुड़ी, वाया-घाटशिला
जिला- पूर्वी सिंहभूम, झारखण्ड

सदस्य:
प्रगतिशील लेखक संघ
अखिल भारतीय संताली लेखक संघ

अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष
Juwan Onoliya नामक संताली साहित्यिक संघ

पुस्तक प्रकाशित
मुलुज लांदा (संताली कविता संग्रह, साहित्य अकादमी, नई दिल्ली से प्रकाशित)
फेसबुक (संताली कहानी संग्रह)

Book Details
ISBN: 9780463763445
Publisher: Virgin Sahityapeeth
Number of Pages: 43
Dimensions: 5.5"x8.5"
Interior Pages: B&W
Binding: Paperback (Saddle Stitched)
Availability: In Stock (Print on Demand)
Other Books in Literature & Fiction, Poetry

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account trasnfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.