Ratings & Reviews

स्वयं की निगरानी SELF MONITORING

स्वयं की निगरानी SELF MONITORING

(4.50 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

2 Customer Reviews

Showing 2 out of 2
DEEPTI SINGH 7 years, 7 months ago

Re: स्वयं की निगरानी ( Swayam ki nigrani) (e-book)

The book written is very nice.If we implement the thoughts written in this book then definitely one can change their life.
And really our mind is busy with unwanted things, we have to remove this.
Very very good book to clean the mind.

daewoodevarsh 7 years, 7 months ago Verified Buyer

Re: स्वयं की निगरानी ( Swayam ki nigrani) (e-book)

लेखक द्वारा हर मनुष्यों के मन में उमड़ते हुए प्रश्नो को बड़ी ही सहजता से संकलित किया गया है। भाषा सरल एवं प्रवाह से युक्त है। लेखक ने शीर्षक बहुत ही सारगर्भित दिया है। मुझे लेखक का विचार मेरी ख़ुशी मेरे हाँथ में एवं स्वयं को समय क्योँ नहीं उत्कृष्ट लगा। प्रत्येक मनुष्य को खुश होने का अधिकार है एवं इसके लिए उसे किसी के सहारे की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए और इसके लिए खुद को समय देना उतना ही महत्त्वपूर्ण है ताकि हम अपने आप को भी समझ सके। श्री कृष्ण कुमार जी को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें। भूपेंद्र मिरी , सिलीगुड़ी