Ratings & Reviews

हमारी और  उनकी बातें

हमारी और उनकी बातें

(4.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

1 Customer Review

Showing 1 out of 1
satyasty4 7 years, 4 months ago Verified Buyer

Re: हमारी और उनकी बातें (e-book)

ऐसी कविताओं को हर नये युवा और युवतियों तक पहुंचाने की जरुरत है । साधारण भाषा में दिल को कुरेदने वाली कविताएँ । प्रेम की अवधारणा में परिवर्तन करने की कोशिश । संघर्ष में प्रेम की झलक दिखाना कवि की प्रचेष्टा सफल हुइ है..पठनीय...संग्रहनीय...