You can access the distribution details by navigating to My pre-printed books > Distribution

(1 Review)

आखिर कब तक ? (eBook)

फुटकल कविताओं का संग्रह.....
Type: e-book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: ₹0
Available Formats: PDF

Description

मेरी कविताओं का संग्रह ‘आखिर कब तक’ मेरे जीवन की आप बीती कहानी है। मैंने अपने छात्र जीवन से लेकर जीवन को जैसा पाया और जैसा जिया, लगभग उस सबकी यह कविता संग्रह एक संक्षिप्त दास्तान है।
इस कविता संग्रह में आधुनिक भारतीय समाज की विविध विसंगतियों को बेनकाब करने का प्रयास किया गया है। साथ ही इन कविताओं के माध्यम से सामाजिक धरातल पर उत्पन्न होने वाली राजानीतिक व्यवस्था की विद्रूपताओं से त्रस्त लोक समुदाय की अंतर्चीख को प्रस्फुटित करने की कोशिश की गयी है।

Book Details

Number of Pages: 37
Availability: Available for Download (e-book)

Ratings & Reviews

आखिर कब तक ?

आखिर कब तक ?

(5.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

1 Customer Review

Showing 1 out of 1
npatel 10 years ago Verified Buyer

Re: आखिर कब तक ? (e-book)

This book is worth reading for the exact depiction of society . The poems may not be relevant in the present context but it portrays the social and political scene in past very nicely.

Other Books in Poetry

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.