You can access the distribution details by navigating to My Print Books(POD) > Distribution

(1 Review)

जादुई कम्पास

Omprakash Kshatriya 'Prakash'
Type: Print Book
Genre: Children, Entertainment
Language: Hindi
Price: ₹229 + shipping
Price: ₹229 + shipping
Due to enhanced Covid-19 safety measures, the current processing time is 5-7 business days.
Shipping Time Extra

Description

जादू किसे अच्छा नहीं लगता है ?

बच्चे, बड़े व बुजुर्ग- सभी को जादू पसंद होता है। जबकि बड़े जानते कि इस जादूवादू कुछ नहीं होता है। यह सब हाथ की सफाई होती है। जादूगर अपनी कला द्वारा असत्य को सत्य करके दिखा देता है।
ठीक वैसे जादू भरी कहानी सभी को पसंद आती है। यही कारण है कि इतिहास में परियों वाली, जादू भरी, अजीबोगरीब, रहस्यरोमांच आदि की कहानियां आज भी पाठकों द्वारा पसंद की जाती है।
कहानियों का जादू ही ऐसा होता है जो सभी के सिर चढ़कर बोलता है। आनंद देता है। बस एक बार आप पढ़ने की आदत लग जाए। पुराने समय में कहानी पठन-पाठन मनोरंजन, आनंद व समय व्यतीत करने का एक तरीका था। दादीनानी को हजारों कहानियां मुँहजबानी याद होती थीं।
कहानीकार यह जादू आजकल की सिर चढ़कर बोलता है। यही वजह है कि आज भी अच्छी फिल्में बहुत पैसा कमाती है। ये अपनी कहानी के साथ-साथ बेहतर प्रस्तुति, अभिनव, साजसज्जा और कल्पना शक्ति के बल पर दर्शनीय हो जाती है।
दादीनानी भी यही करती थीं। वे कहानी सुनाते समय अपने अभिनव- आंख, हाथ व चेहरे के उतार-चढ़ाव द्वारा कहानी को रहस्य, रोमांच व आनंद से भरपूर बना देती थीं। डरावनी बच्चे को नायक को बहादुर बनाकर पेश करती थीं। वही निडर बच्चे की निडरता को परखने के लिए खलनायक के डरावनेपन का ज्यादा बखान करती थीं ताकि बच्चों की निडरता को परखा जा सके।
कहानी बच्चों में बहुत परिवर्तन लती है। बच्चों के अंतर मन को गहरे से प्रभावित करती है। उनमें संस्कार, कार्य व्यवहार और आदतें विकसित करने में इनका बड़ा हाथ होता है। ये अपने प्रभाव के द्वारा बालपाठकों के हृदय को परिवर्तित कर देती है।
यही वजह है कि पाठ्यक्रम में कहानियों का समावेश अनिवार्य रूप से होता है। ताकि बच्चों में कहानी के प्रभाव से उनमें सूझबूझ, ईमानदारी, सत्यनिष्ठा, मातापिता की सेवा, दयालुता सहृदयता, साहस, सहयोग आदि गुणों का विकास किया जा सके।
कहानी की शक्ति को कोई नकार नहीं सकता है। विकसित देशों में इसकी प्रभावशीलता को स्वीकार किया गया है। यही वजह है कि उनके पाठ्यक्रम में भी कहानी अनिवार्य हिस्सा होती है।
यदी आप अभिभावक हैं तो अपने बच्चों को कहानी सुना कर, उसे कहानी की किताब देकर, उसमें अन्य गुणों का विकास सहजता से कर सकते हैं। बस, उन्हें कहानी सुनने-सुनाने और उस का आनंद लेने के लिए प्रेरित करना होगा।

About the Author

नाम- ओमप्रकाश क्षत्रिय 'प्रकाश', पत्नी- श्रीमती गीता क्षत्रिय, पिता- श्री केशवराम क्षत्रिय माता- श्रीमती सुशीलादेवी क्षत्रिय, जन्मतिथि एवं स्थान- 26 जनवरी 1965 भानपुरा जिला-नीमच (मप्र) प्रकाशन- अनेक पत्रपत्रिकाओं में रचना सहित141 बालकहानियाँ 8 भाषा में 1128 अंकों में प्रकाशित। प्रकाशित पुस्तकेँ-1- रोचक विज्ञान कथाएँ, 2-संयम की जीत, 3- कुएं को बुखार, 4- कसक, 5- हाइकु संयुक्ता, 6- चाबी वाला भूत, 7- पहाड़ी की सैर, इन्द्रधनुष (बालकहानी माला-7) सहित 4 मराठी पुस्तकें प्रकाशित। प्राप्त पुरस्कार- अनेक संस्थाओं द्वारा सम्मानित व पुरस्कृत। मोबाइल नं.- 9424079675, opkkshatriya@gmail.com

Book Details

ISBN: 9798887834047
Number of Pages: 108
Dimensions: 5.5"x8.5"
Interior Pages: B&W
Binding: Hard Cover (Case Binding)
Availability: In Stock (Print on Demand)

Ratings & Reviews

जादुई कम्पास

जादुई कम्पास

(5.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

1 Customer Review

Showing 1 out of 1
opkshatriya 1 month, 2 weeks ago Verified Buyer

जादुई कंपास

इसकी कहानियां बहुत ही बढ़िया है। इसे पढ़कर बहुत ही अच्छा लगता है। एक बार कहानी पढ़ने पर पाठक पढ़ता ही चला जाता है। इस मायने में बहुत ही बढ़िया कहानियां है।
इस पुस्तक का कहानीकार प्रसिद्ध कहानी की पत्रिका चंपक का जाना माना लेखक है।

Other Books in Children, Entertainment

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.