You can access the distribution details by navigating to My Print Books(POD) > Distribution

(2 Reviews)

Hallaur 'Itihaas ke Ayine Me'

Hallaur "In The Mirror of History"
Syed Sultan Ahmad Rizvi
Type: Print Book
Genre: Politics & Society, History
Language: Hindi
Price: ₹499 + shipping
Price: ₹499 + shipping
Due to enhanced Covid-19 safety measures, the current processing time is 8-10 business days.
Shipping Time Extra

Description

हल्लौर! रिज़वीया सादात के, 410 वर्ष पुराने एक क़स्बे का नाम हैं, जो पूर्व में थारुओं का गढ़ हुआ करता था और तब यह हिलोरा के नाम से जाना जाता था. हल्लौर वास्तव में एक अलग ही दुनिया हैं, जहाँ की संस्कृति, बोली, रहन - सहन और आबादी से अब जुड़ चुकी आबादियों में कहीं भी देखने का मौका नहीं मिल सका. बचपन से ही जहाँ पर पढाई के प्रति रुझान पाया जाता है, इससे इतर जहाँ सबमे सांस्कृतिक विरासत कूट कूट कर भरी हुई है.

मैंने इस कसबे के लोगों में लालित्य प्रेम, साहित्य के प्रति रुझान, कला के प्रति दीवानापन, तथा प्रत्येक विधा के प्रति निपुणता पाई, कि सोंचना पड़ गया, इसे एक पुस्तक में किस प्रकार सहेज सकूँगा! मेरे लिए यह एक चुनौती समान था. काफी सोचने और समझने के बाद मैंने यह निर्णय लिया कि पुस्तक को अध्याय में बाँटा जाए. इस प्रकार कुल 50 अध्याय तैयार हो गए. मैंने उसमें से कुछ अध्याय को निकाल कर कुल 26 अध्याय को इस पुस्तक में शामिल किया हैं, जिसमे कसबे के हर रंग को कवर करने की कोशिश की गयी है.

चूँकि इस ग्राम में लगभग 175 वर्षों पूर्व से ही अग्रहरी व गुप्ता समाज सैयादों के साथ साथ रहा है, अत: सांस्कृतिक विरासत का आदान प्रदान भी आपस में होता रहा है. इस सत्य को इस पुस्तक के कई अध्याय में उकेरने की कोशिश की गयी है.

मेरी हसरत है, आने वाली नस्ले, इस पुस्तक के माध्यम से स्वम, समाज, और आपसी भाईचारे को दृष्टीगत रखते हुए अपने कलम के पैनेपन से उन्हें नए संबल प्रदान करें और उन बुलंदियों को छुने का प्रयास करें, जिसकी कल्पना मैंने कर रखी है अपनी मस्तिक में, या यूँ कहें जिन बुलंदियों को छुने में मैं नाकाम रह गया हूँ.

सुल्तान अहमद रिज़वी (भाईजान)

About the Author

हिंदी नाट्य लेखन, गीत लेखन, व फिल्म पटकथा - संवाद लेखन अभिनय व निर्देशन कुल 80 पूर्णकालिक, लघुनाटक व रेडियो नाटक, 1300 गीत एवं 70 भजन लेखन, वापसी, सुख का सूरज, बड़े मियां दीवाने, कब्बो आर कब्बो पार, कजरी शीर्षक से फिल्म कथा, पटकथा, संवाद एवं गीत लेखन. घमछैयाँ नमक टेलीफिल्म का लेखन जिसे दूरदर्शन पे प्रसारित किया गया. स्वम लिखे गए 66 नाटको का निर्देशन अन्य लेखको के चार नाटको में अभिनय स्वम के निर्देशन में 14 नाटको में अभिनय तथा आकाशवाणी के लिए बाल गीत का लेखन कार्य.

और भी दर्द है सीने में मोहब्बत के सिवा! नाटकों का लेखन इसी शेर के मिसरे पे आधारित रखा. समाज में फैली कुरीतियों, जीवन संघर्ष, अधिकारों की प्राप्ति, के लिए बुलंद होती आवाज़, यही अधिकतर नाटको का मूल विषय रहा.

पूर्वउत्तर रेलवे (गोरखपुर) के लिए एक दर्जन से अधिक नाटको का लेखन, निर्देशन कार्य, जिसे अधिकतर नाट्य प्रतियोगिताओ में भेजा गया. रेलवे को कई बार अवार्ड जीतने के सौभाग्य प्राप्त हुआ. रेलवे के लिए घूमते पहिये सिमटी दूरियां नमक फिल्म का लेखन किया.
देवरिया (उत्तर प्रदेश) मुख्यालय पर रहते हुए स्वर संगम नाम की संस्था की स्थापना. गोरखपुर में 38 वर्ष की अवधि तक रहते हुए अधिकतर नाटको का लेखन, निर्देशन, प्रदर्शन का कार्य स्वंय बनाई गई संस्था Amature Artist Guild "आग परिवार" के बैनर तले किया.

Book Details

ISBN: 9789351964490
Publisher: Syed Sultan Ahmad Rizvi
Number of Pages: 293
Dimensions: 5"x7"
Interior Pages: B&W
Binding: Paperback (Perfect Binding)
Availability: In Stock (Print on Demand)

Ratings & Reviews

Hallaur 'Itihaas ke Ayine Me'

Hallaur 'Itihaas ke Ayine Me'

(4.50 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

2 Customer Reviews

Showing 2 out of 2
Abbas Rizvi 6 years, 8 months ago

Re: हल्लौर "इतिहास के आईने में"

Greatly appreciated..Had gone through the entire content,captivating right from the first page, really great collection.... Mind blowing !!! already suggested this book on to friends, am sure they will enjoy dipping in and out of it. Recommended for someone who hasn't got the time to fully immerse themselves to go in detail. Its debrief but a complete book.... Rated 4.5 stars!!!!

Kind Regards
Syed Abbas Shabbir Rizvi

hallauriforu 6 years, 9 months ago Verified Buyer

Re: हल्लौर "इतिहास के आईने में"

Dear Sultan Ahmad Rizvi (Bhaijaan) I am glad to see your most awaited book Hallaur Itihaas ke Ayine me it is very good initiative taken by you. It must be appreciated by all India. I am impressed with you and your initiative. People who are living in metro as well as Villages both are become happy to read this book.

Other Books in Politics & Society, History

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.