You can access the distribution details by navigating to My Print Books(POD) > Distribution

Add a Review

मेरी ज़िंदगी मे तुम

Wish You Ever Believed On Me
निखिल मेनन
Type: Print Book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: ₹200 + shipping
Price: ₹200 + shipping
Due to enhanced Covid-19 safety measures, the current processing time is 5-7 business days.
Shipping Time Extra

Description

नमस्कार!
मैंआपको अपनी पुस्तक “मेरी ज ़िंदगी मैंतुम” के बारेमेंबताना
चाहता हूँ। यह प्यार के रास्तेपर एक आदमी की यात्रा के बारेमेंहै।
जकतना वह अपनेजदल सेएक लड़की को प्यार करता हैलेजकन वह
कभी उसके प्यार को समझ नही ़िंपाती हैक्ो़िंजक लड़के नेदोस्ती में
अपना वादा तोड़ा और बहुत सारी गलजतयाूँकी और झूठ बोले। एक
बुरा लड़का जो कभी अपनी ज ़िंदगी समाज के जनयमो़िं अनुसार
व्यतीत नही ़िंकरता था, अपनी एक दोस्त सेप्यार कर बैठता हैऔर
खुदको पूरी तरह बदल देता है। यह पुस्तक एक लड़के की वततमान
स्थथजत के बारेमेंहैजो की अपोररयन और शून्यवादी जदमाग जवचार
का बन गया है।
प्रेम जकस प्रकार जीवन नष्ट कर सकता है। यह जकताब पढ़नेवालो़िं
केजदल मेंसवाल उत्पन करेगी। जैसे
प्यार क्ो़िंहोता है?
सच्चा प्यार हमेशा लोगो़िंद्वारा अनदेखा क्ो़िंजकया जाता है?
प्रेम पीछेइतना ददतक्ो़िंछोड़ जाता है?
मरनेसेपहलेप्यार क्ो़िंमारता है?
इस पुस्तक के लेखक नेअ़िंत मेंखुद को हमेशा केजलए ददतमेंपाया
और इस पुस्तक की सहायता सेयह उम्मीद करनेकी कोजशश
करता हैजक उसका जीवन उसेखुद को मारनेकेजलए एक खुश से
भरा कारण देगा।

About the Author

"मेरी जज़िंदगी मेंतुम" पुस्तक के लेखक का नाम "जनस्खल मेनन" है।
उनका जन्म हररयाणा नाम के एक छोटेसेशहर फरीदाबाद में8
जनवरी 1997 मेंहुआ। उन्ो़िंनेअपनी बी.टेक की पढ़ाई यू. आई. इ.
टी. (रोहतक) सेकी।
अपनेकोलाज की अवजध के दौरान उनकी मुलाकात एक लड़की
सेहुई जजसेवह "k" कहतेहैं। एक फॉमतल टेस्स़िंग सेदोनो काफी
करीबी दोस्त बन गए, एक-दू सरेको व्हाट्सएप पर मैसेज और
कभी-कभी कॉल पर। पऱिंतुअ़िंत मेंजैसा जक हर प्रेम कहानी मेंहोता
है। बहुत कु छ कारणो़िंऔर लेखक की गलजतयाूँऔर झूठ की वजह
सेउसनेलेखक को छोड़ जदया और कभी वापस नही ़िंआई।
उसके बाद लेखक नेअपनेजीवन को कजवताओ़िं के माध्यम से
सफे द पन्नो पर उतरना शुरू जकया। लेखक एक रैपर के तौर पर
दुजनया के सामनेआना चाहतेथेमगर उस लड़की के प्रजत प्यार
गलजतया़िं झूठ और ददतनेलेखक को शायरी और गजलेजलखनेके
जलए प्रेररत जकया। लेखन के काफी समय बाद लेखक नेअ़िंत में
अपनी जज़िंदगी सेजुड़ी गजलो़िंको पुस्तक का रूप देनेके जलए इस
पुस्तक का जनमातण जकया।

Book Details

Publisher: निखिल मेनन
Number of Pages: 60
Dimensions: 6"x9"
Interior Pages: B&W
Binding: Paperback (Perfect Binding)
Availability: In Stock (Print on Demand)

Ratings & Reviews

मेरी ज़िंदगी मे तुम

मेरी ज़िंदगी मे तुम

(Not Available)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

Currently there are no reviews available for this book.

Be the first one to write a review for the book मेरी ज़िंदगी मे तुम.

Other Books in Poetry

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.