Ratings & Reviews

बदनसीब बादशाह  शाहआलम सानी

बदनसीब बादशाह शाहआलम सानी

(5.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

1 Customer Review

Showing 1 out of 1
ABHIJATKS 8 months, 3 weeks ago

एक बेहतरीन पुस्तक इसको पढ़कर नए तथ्यों की जानकारी हुई

एक बेहतरीन पुस्तक इसको पढ़कर नए तथ्यों की जानकारी हुई । इस बात की कल्पना भी नहीं की जा सकती कि लाल किले में रहने वाले मुगल बादशाह ऐसे भी थे जो अपने बच्चों को दो वक्त का खाना भी नहीं दे पाते थे और जिनके पास पहनने के लिए दूसरा कोर्ट भी नहीं था । शाह आलम साहनी की आंखें तो उसी के मीर बक्शी गुलाम कादिर ने निकालते हुए उसकी बेदनाथ पर वह अत्याचार किए जिसकी आज कल्पना भी नहीं की जा सकती ।