Ratings & Reviews

जंजीरे शहंशाह की नगरी

जंजीरे शहंशाह की नगरी

(4.00 out of 5)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

1 Customer Review

Showing 1 out of 1
madanpuri_ks 7 years, 1 month ago

Re: जंजीरे शहंशाह की नगरी (e-book)

रोचक बाल उपन्यास !!!!
पढने से रोमांच चरम सीमा पर आ जाता है.
काफी समय बाद एक जासूसी रचना आई है।
पुस्तक का हर चरित्र आपने आप में पूर्ण है।