You can access the distribution details by navigating to My pre-printed books > Distribution

Add a Review

शीघ्र स्खलन (शीघ्रपतन) - कारण, लक्षण, नुकसान, घेरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक होम्योपैथिक नेचुरोपैथी और योगा द्वारा सफल उपचार (eBook)

Type: e-book
Genre: Romance, Sex & Relationships
Language: English, Hindi
Price: ₹49
(Immediate Access on Full Payment)
Available Formats: PDF

Description

शीघ्र स्खलन (शीघ्रपतन) - कारण, लक्षण, नुकसान, सही घेरेलु उपायो से इलाज एवं आयुर्वेदिक दवा मेडिसिन टेबलेट तेल होम्योपैथिक दवाई नेचुरोपैथी और योगा द्वारा सफल उपचार

शीघ्रपतन एक ऐसा रोग जो आज के नवयुवकों में महामारी की तरह फैल रहा है। यह रोग युवकों को शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी नुकसान पहुंचा रहा है। असल में शीघ्रपतन है क्या यह बात जानना जरूरी है क्योंकि बहुत से युवक तो सिर्फ इसके नाम से ही बुरी तरह भयभीत हो जाते हैं।

सेक्स के मामले में यह शब्द वीर्य के स्खलन यानि जल्दी डिसचार्ज के लिए प्रयोग किया जाता है। किसी भी आदमी का उसकी इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक स्खलित (डिस्चार्ज) हो जाए, अथवा किसी महिला साथी से सहवास के वक्त संभोग शुरू करते ही वीर्यपात हो जाए और पुरुष डिस्चार्ज होना रोकना चाहकर भी वीर्यपतन को रोक न सके, या फिर सेक्स के दौरान अधबीच में अचानक ही स्त्री को संतुष्टि व कामतृप्ति प्राप्त होने से पहले ही पुरुष का वीर्य शीघ्र ही स्खलित हो जाना या निकल जाना, इसे शीघ्रपतन होना कहते हैं।

* शीघ्रपतन क्या होता है ?

बिना सन्तुष्टी के संभोग करते हुए अगर वीर्य स्खलन हो जाये तो उसे शीघ्रपतन कहा जाता है। पुरुष की इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक स्खलित हो जाए, स्त्री सहवास करते हुए संभोग शुरू करते ही वीर्यपात हो जाए और पुरुष रोकना चाहकर भी वीर्यपात होना रोक न सके, अधबीच में अचानक ही स्त्री को संतुष्टि व तृप्ति प्राप्त होने से पहले ही पुरुष का वीर्य स्खलित हो जाना या निकल जाना, इसे शीघ्रपतन होना कहते हैं।

जब कोई male female के साथ सेक्स करता है उस समय वो अपना पेनिस फीमेल की वेजाइना में डालता है और उसे अन्दर-बाहर करता है. ये प्रक्रिया तब तक चलती है जब तक की पुरुष के पेनिस से वीर्य ( सफ़ेद चिप-चिपा पदार्थ) बाहर नहीं निकल जाता. वीर्य निकलने के बाद penis erect नहीं रह पाता और ये प्रक्रिया वहीँ ख़त्म हो जाती है.

* शीघ्रपतन के कारण -

अश्लील वातावरण में रहना, मस्तिष्क की कमजोरी और हर समय सहवास की कल्पना मे खोये रहना यह शीघ्रपतन का कारण बनती है। ज्यादा गर्म मिर्च मसालों व अम्ल रसों से खाद्य-पदार्थो का सेवन करने, शराब पीने, चाय-कांफी का ज्यादा पीना और अश्लील फिल्म देखने वाले, अश्लील पुस्तकें पढ़ने वाले शीघ्रपतन से पीडित रहते हैं।

Premature ejaculation (PE) इन कारणों से भी हो सकता है:
खान-पान की आदत का ख़राब होना,
उचित मात्रा में समय पर भोजन न करना
विटामिन्स की कमी होना,
पाचन तन्त्र कमजोर होना।
लगातार पेट खराब रहना।
लम्बे समय तक कब्ज रहना।
खून व भूख की कमी
हारमोंस का बहुत अधिक प्रभावित होना
हमारे शरीर में वीर्य का कम मात्रा में बनना,
शिश्न की नसों का सिकुड़ जाना
दिमाग में खुश्की का बढ़ जाना
हमेशा चिन्ता, तनाव का बने रहना
सेक्स करने का अनुभव ना होना
नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर PE हो सकता है
कुछ विशेष positions में सेक्स करने पर भी PE हो सकता है
बहुत दिनों के बाद सेक्स करने पर प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति आ सकती है
फीमेल पार्टनर को संतुष्ट करने की टेंशन
स्ट्रेस या चिंता, ये सम्भोग या किसी अन्य समस्या को लेकर भी हो सकती है
डिप्रेशन
किसी दवा का साइड इफ़ेक्ट
पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना ( ऐसे मामलो में numbing creams मददगार होती हैं)
लड़कपन में पकड़े जाने के डर से जल्दबाजी में किया गया सेक्स बाद में भी PE cause कर सकता है
मन में सेक्स को लेकर guilt feeling होना कि ये गन्दी चीज है
इस बात की चिंता होना कि सेक्स के दौरान पेनिस देर तक खड़ा नहीं रह पायेगा, जड़ी एजैक्युलेट करने का पैटर्न बना सकता है
संबंधों में समस्या: यदि आप पहले किसी और के साथ सेक्स करते समय PE नहीं होता था, तो संभव है कि current partner के साथ आपके संबधों में कोई दिक्कत है, जिससे ये समस्या आ रही है.
हार्मोनल प्रॉब्लम
ब्रेन केमिकल्स का एब्नार्मल लेवल
Ejaculatory system की abnormal reflex activity
कुछ थाइरोइड सम्बन्धी समस्याएं
प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण
अनुवांशिक कारण
सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति
डायबिटीज
हाई ब्लड प्रेशर
प्रोस्टेट डिजीज
Multiple sclerosis

* शीघ्रपतन के लक्षण -

सम्भोग के वक्त, समय से पहले वीर्य का जल्दी निकल जाना शीघ्रपतन है। जब शिश्न प्रवेश (एंट्री) के साथ ही “एक्सिट” होने लगे या फिर, स्त्री अभी चरम पर न हो और व्यक्ति का स्खलन हो जाए तो यह शीघ्रपतन (Premature Ejaculation) है। वीर्य का पतलापन, सहवास के समय स्तंभन (सहवास) शक्ति का अभाव अथवा शीघ्रपतन हो जाना वीर्य का जल्दी निकल जाना।

इस रोग से पीड़ित रोगी जल्दी ही उत्तेजना में हो जाता है या उसकी उत्तेजना कम होती है तब भी उसका वीर्यपात हो जाता है।
जब रोगी व्यक्ति पेशाब करते समय जोर लगाता है तो उसका वीर्यपात हो जाता है।

रोगी व्यक्ति का लिंग सुस्त हो जाता है।

इस रोग से पीड़ित रोगी कभी-कभी जब स्त्री को देखते है या कोई नंगी तस्वीरें , ब्लू फिल्में देखते हैं या फिर अश्लील पत्र-पत्रिकाएं पढ़ते हैं तब उनका वीर्यपात हो जाता है।

कामोत्तेजना के समय में रोगी व्यक्ति का वीर्य स्त्री के वीर्य से पहले ही लिंग से निकल जाता है और उसका लिंग सुस्त हो जाता है जिसके कारण मैथुन क्रिया का सुख उसे नहीं मिल पाता है।

सेक्स को टालना

संभोग करने के बाद एक guilt feeling का होना कि आप partner को संतुष्ट नहीं कर पाए

सेक्स करने से पहले मन में शीघ्रपतन का डर आना

इस रोग से पीड़ित रोगी का वीर्य पतला हो जाता है।

इस रोग से पीड़ित रोगी का शरीर दिन प्रतिदिन गिरता जाता है और उसका स्वास्थ्य खराब हो जाता है।

जब रोगी व्यक्ति अपने शिश्न को स्त्री की योनि के अंदर प्रवेश करता है उसके बाद योनि की गर्मी से शिश्न पर द्रढ़ प्रतिक्रिया होती है जिसके कारण शिश्न से वीर्य जल्दी निकल जाता है।

* शीघ्रपतन के नुकसान -
ऐसे में स्वयम से लाचार वअसंतुष्टि होना
ग्लानि, हीन-भावना,
नकारात्मक सोच या
अपने-आपको कोसना, कमजोर समझना ।

संभोग क्रिया के समय जिनका वीर्य कुछ मिनटों में ही निकल जाता है अर्थात वह कुछ मिनटों में स्खलित हो जाते हैं उनको लगता है कि वह अपनी पत्नी को कभी खुश नहीं रख सकते, उसे संभोग की चरम सीमा पर नहीं पहुंचा सकते आदि। कई युवकों को तो यह भी डर रहता है कि इसके कारण उनको बाप बनने में भी परेशानी आ सकती है। ऐसे कितने ही सवाल उनके मन में संभोग क्रिया के समय स्खलित जल्दी हो जाने पर पैदा होते हैं।

* शीघ्रपतन का इलाज एवं उपचार -

जब कोई व्यक्ति किसी स्त्री के साथ यौन सम्बंध नहीं बना पाता या जल्द ही शिथिल हो जाता है तो वह व्यक्ति शीघ्रपतन के रोग से पीड़ित कहलाता है। इस रोग का सम्बंध ज्ञानेन्द्रियों से होता है। इस रोग के कारण रोगी को स्त्री से संभोग करने में डर लगता है। उसे ऐसा लगता है कि कहीं उसकी पत्नी उसके इस रोग के कारण उससे छोड़कर न चली जाए। जब कोई व्यक्ति किसी स्त्री के साथ यौन सम्बंध नहीं बना पाता या जल्द ही शिथिल हो जाता है तो वह व्यक्ति शीघ्रपतन के रोग से पीड़ित कहलाता है।कभी-कभी इस रोग के हो जाने के कारण रोगी को संभोग सम्बन्धी सपने आते हैं जिसके कारण उस व्यक्ति को रात में बिस्तर पर ही शीघ्रपतन (वीर्य निकल जाना) हो जाता है। इस रोग के कारण रोगी के शरीर की शक्ति भी कम हो जाती है।

* यह बुक उपयोगी क्यों है ?
व्यक्ति को यह जानना बहुत जरुरी है कि आखिर कैसे एक सेक्स क्रिया शुरु से अंत तक सम्पन्न होती है । स्त्री पुरुष के कौनसे अंग किस प्रकार से संभोग क्रिया में अपने कार्यो को करते है । संभोग क्रिया से पहले व बाद में क्या करना चाहिए और क्या नही करना चाहिये आदि के बारे विस्तृत जानकारी जानें । फिर घेरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक होम्योपैथिक नेचुरोपैथी और योगा द्वारा सफल उपचार किया जाता है । इस प्रकार यह बुक आपको एक युरोलॉजिस्ट विशेषज्ञ की भुमिका निभाती है ।

Shighrapatan
Virya jaldi girne ko hi shihrapatan kahte hai. Virya rokne ka ilaj krke is problem se chhutkara paya ja skta hai. Shighrapatan ka ilaj bahut jaruri hai.

Shighrapatan Ka Ilaj
Shighrapatan ki dawa or medicine market me bahut hai. Shighrapatan rokne ke liye aapne patanjali, baidhyanath, himalaya dabur or bhi dawa khayi hongi Lekin unko lete hai tab tak hi asar dikhta hai. Jaise hi lena band kiya problems fir se shuru hoi jati hai. To ye permanent solution nhi or Har kisi ke pas itne paise bhi nhi hote hai ki vo bar bar in medicine ko le sake. Ye Book aapko ghar baithe shighrapatan ka rampban ilaj karna sikhati hai. is Book me Ayurvedic, Homeopathic ilaj ke sath bina dawai ke iska upchar sikhati hai.

Shighrapatan Ki Medicine or Dawa
Agar app sochte hai ki shighrapatan rokne ki patanjali, baidyanath, himalaya ya dabur se ilaj kar lenge to aap bilkul galat hai. Inse dawa or medicine aap longtime result achieve nhi kar skate. Ye book aapko ye shikayegi ki lontime shighrapatan se kaise bacha jaaye.

Shighrapatn Se Chhutkara Paiye, Manchaha Time Paiye
Book Kyon Karide?
Shighrapatan rokne ki dawa medicine se koi fayda nhi ho rha hai, to aapko natural treatment ki jarurat hai. Bina market ki dawai ke gherelu ramban nushko se ilaj kare, ghar baithe bina kisi side effect ke. or bina kisi ko pata lagaye. Bina kisi sharm ke.

Ye book aapko shighrapatan ka gharelu upchar ke sath sath ye bhi batati hai ki bina dawa ke kaise chhutkara paya jaye. ek bar jarur padhiye aapko iska labh jarur milega.

About the Author

DR. S.K. Jain
Sexologist, Aligarh

Dr. S.K. Jain - Ab tak hajaro logo ka ilaj kar chuke hai. unhone paya ki sabhi log ilaj ke liye paise nhi de skte. Unhone is book me vo sab bataya jisse koi bhi vyakti ghar baithe shighrapatan ka ilaj kar skta hai.

Book Details

Number of Pages: 128
Availability: Available for Download (e-book)

Ratings & Reviews

शीघ्र स्खलन (शीघ्रपतन) - कारण, लक्षण, नुकसान, घेरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक होम्योपैथिक नेचुरोपैथी और योगा द्वारा सफल उपचार

शीघ्र स्खलन (शीघ्रपतन) - कारण, लक्षण, नुकसान, घेरेलु इलाज एवं आयुर्वेदिक होम्योपैथिक नेचुरोपैथी और योगा द्वारा सफल उपचार

(Not Available)

Review This Book

Write your thoughts about this book.

Other Books in Romance, Sex & Relationships

Shop with confidence

Safe and secured checkout, payments powered by Razorpay. Pay with Credit/Debit Cards, Net Banking, Wallets, UPI or via bank account transfer and Cheque/DD. Payment Option FAQs.